Support service
×

चैप्टर 1. परिचय

1970 के दशक तक, किसी भी विशेष मुद्रा का विनिमय दर देश के स्वर्ण भंडार के आधार पर निर्धारित किया जाता था। इसका कारण था कि वैश्विक बाजारों को सोने के मानक द्वारा नियंत्रित किया जाता था। प्रत्येक मुद्रा का मूल्य ट्रॉय औंस के बराबर होता था। हालांकि, समय के साथ सोने के मानक को छोड़ने के बाद स्थिति बदल गई है। इस व्यवस्था को अस्थायी विनिमय दरों की एक प्रणाली द्वारा बदल दिया गया है जिसमें किसी मुद्रा का मूल्य उसकी आपूर्ति और मांग द्वारा निर्धारित किया जाता है। इस प्रकार विदेशी मुद्रा बाजार/फॉरेक्स मार्केट स्थापित किया गया है।
 
फॉरेक्स मार्केट में, एक देश की मुद्रा इकाई किसी दूसरे देश की निश्चित संख्या की इकाइयों के लिए बेची जाती है। यह कल्पना करना मुश्किल है कि पैसे के लिए पैसे को कैसे बेचा जाए। इस कारण से, आप मुद्रा को एक ऐसा स्टॉक मान सकते हैं जो आपको किसी देश की अर्थव्यवस्था में हिस्सेदारी का अधिकार देता है। इसीलिए किसी देश का आर्थिक लचीलापन उसकी मुद्रा की स्थिरता से निर्धारित होता है। इस प्रकार, फॉरेक्स ट्रेडिंग करते समय, हम देशों की अर्थव्यवस्थाओं के "भागों" को ट्रेड करते हैं।
 
फॉरेक्स इतना अनूठा क्यों है? एक ऐसे बाजार की कल्पना करें जहां आप अपनी इच्छानुसार कुछ भी बेच या खरीद सकते हैं। आप इस बाजार में एक उत्पाद लाते हैं और आपको तुरंत एक खरीदार मिल जाता है जो पारस्परिक रूप से लाभकारी मूल्य का भुगतान करने को तैयार होता है। ये उच्च तरलता वाले आदर्श बाजार की विशेषताएं हैं। तरलता पारस्परिक रूप से लाभकारी मूल्य पर उत्पाद को बेचने या खरीदने का एक अवसर है, या, दूसरे शब्दों में, पैसे के लिए उत्पाद के आदान-प्रदान का अवसर है। एक आदर्श बाजार कैसे संचालित होता है? इसमे एकाधिकार, निष्पक्ष प्रतियोगिता, बड़ी संख्या में प्रतिभागीयों की संख्या और चौबीसों घंटे संचालन पर प्रतिबंध है। ये एक आदर्श बाजार की मुख्य आवश्यकताएं हैं, इनके अलावा अन्य आवश्यकताएँ भी हैं। सबसे पहले, आपको यह याद रखना चाहिए कि सभी वैश्विक बाजारों की तुलना में विदेशी मुद्रा बाजार में सबसे अधिक तरलता होती है!
 
फॉरेक्स मार्केट का दैनिक कारोबार $3 बिलियन से अधिक है। इसके अलावा, हर ट्रेडर आसानी से बाजार में प्रवेश कर सकता है। आपको केवल एक निश्चित मात्रा में आरंभिक पूंजी (हम इस मुद्दे पर बाद में चर्चा करेंगे) और एक इंटरनेट कनेक्शन की आवश्यकता होती है। इतनी बड़ी संख्या में प्रतिभागियों के कारण कोई भी लंबे समय तक किसी भी मुद्रा की आपूर्ति और मांग को प्रभावित नहीं कर सकता है। आपूर्ति और मांग को प्रभावित करने वाली सभी प्रक्रियाएं प्राकृतिक आर्थिक प्रक्रियाएं होती हैं जिनकी विशेषता नियमितता और अप्रत्याशितता है। यदि आप सफलतापूर्वक विदेशी मुद्रा व्यापार करना चाहते हैं, तो इन प्रक्रियाओं के परिवर्तनों को समझना और तुरंत प्रतिक्रिया देना बहुत महत्वपूर्ण है। इस रणनीति को मौलिक विश्लेषण कहा जाता है। इसके अलावा, एक और तरह का विश्लेषण तकनीकी विश्लेषण होता है जिस पर बाद में चर्चा की जाएगी।
 
दिलचस्प बात यह है कि 1990 के दशक के अंत तक केवल बड़े वित्तीय संस्थान और बैंक ही विदेशी मुद्रा बाजार में व्यापार करने में सक्षम थे। बाजार सहभागियों के बीच खरीद/बिक्री अनुबंध पूरा करने के लिए बड़ी मात्र में अमेरिकी डॉलर होना जरूरी था। हालाँकि, इंटरनेट के विकास ने इस प्रथा को बदल दिया है क्योंकि अब बिचौलिए या ब्रोकर सामने आए हैं। मार्जिन ट्रेडिंग का लाभ उठाते हुए, महत्वपूर्ण पूंजी वाले निजी व्यक्ति अपनी पूंजी के साथ जोखिम उठाते हुए हजारों अमेरिकी डॉलर के लंबे / छोटे ट्रेड खोल सकते हैं। मार्जिन ट्रेडिंग फॉरेक्स ट्रेडिंग का मूल है लेकिन हम इसके बारे में बाद में बात करेंगे।

विदेशी मुद्रा का कोई भौतिक स्थान या केंद्रीकृत विनिमय कार्यालय नहीं है। निवेशक पूरी दुनिया में विदेशी मुद्रा व्यापार करते हैं! इसकी ट्रेडिंग 24 घंटे की जाती है। कैलेंडर दिवस के अनुसार, ट्रेडिंग दक्षिणी गोलार्ध में वेलिंगटन (न्यूजीलैंड) में शुरू होता है, सिडनी, टोक्यो, हांगकांग, सिंगापुर, मॉस्को, फ्रैंकफर्ट एम मेन, लंदन, ज्यूरिख में समय क्षेत्रों में प्रकट होता है, और न्यूयॉर्क और लॉस-एंजिल्स में समाप्त होता है। उपर्युक्त शहरों में टोक्यो, लंदन और न्यूयॉर्क सबसे महत्वपूर्ण हैं। दिन के समय के आधार पर, एक मुद्रा दूसरे की तुलना में अधिक अस्थिर हो सकती है, जिसे मुख्य वित्तीय मंजिलों के काम के घंटों द्वारा समझाया गया है।
 
आइए परिचय को संक्षेप में प्रस्तुत करते हैं। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा बाजार में अन्य बाजारों की तुलना में कई फायदे हैं जैसे की शेयर बाजार जहां केवल शेयरों का कारोबार होता है। रूस के सुदूर पूर्व में अब आधी रात में जाग कर मास्को के शेयर बाजार के बंद होने के इंतजार करने की जरूरत नही है। विदेशी मुद्रा चौबीसों घंटे काम करती है और इसकी दुनिया में सबसे अधिक तरलता है।
 
इंटरनेट के विकास ने कई ब्रोकर्स के उद्भव में योगदान दिया है जिससे लोगों को विदेशी मुद्रा बाजार में काम करने और लाभ कमाने का अवसर मिल है। इंटरनेट के  विकास से कई ब्रोकर्स उभर कर आए हैं  जो व्यक्तिगत निवेशकों को विदेशी मुद्रा बाजार में व्यापार करने और लाभ कमाने में सक्षम बनाते हैं। इन ब्रोकर्स के बीच प्रतिस्पर्धा बहुत तीव्र होती है। नतीजतन, ब्रोकर फॉरेक्स में आम लोगों के लिए लाभदायक व्यापारिक स्थितियों की पेशकश करते हैं। परिचयात्मक भाग में, हमने जानबूझकर विशेष शब्दों का प्रयोग नहीं किया है। हम पाठक को अत्यधिक मात्रा में जानकारी से बोझिल नहीं करना चाहते थे। हालांकि, फॉरेक्स ट्रेडिंग की व्याख्या करने के लिए निम्नलिखित चैप्टर लिखे गए हैं।

अपनी राय साझा करें

धन्यवाद! क्या कोई ऐसी बात है जो आप जोड़ना पसंद करेंगे?

आपको प्राप्त उत्तर का मूल्यांकन आप कैसे करेंगे?

अपनी टिप्पणी दें (वैकल्पिक)

आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है।
हमारे ऑनलाइन सर्वेक्षण को पूरा करने के लिए समय निकालने के लिए धन्यवाद!

smile""