Support service
×

चैप्टर 18 फॉरेक्स पर कमोडिटी करेंसिस

जैसा कि हम पिछले अध्यायों से पहले ही जान चुके हैं, मुद्रा की कीमत कई तरह से निर्धारित होती है, जैसे आर्थिक, राजनीतिक और कुछ अन्य। प्रत्येक देश से संबंधित उसके सभी सूचीबद्ध कारक अपने राष्ट्रीय मुद्रा को अपने तरीके से प्रभावित करते हैं - उनमें से कुछ अधिक और कुछ कम। लेकिन फॉरेक्स पर मुद्राएं होती हैं जिनकी कीमत मुख्य रूप से एक कारक द्वारा निर्धारित की जाती हैं - देश का निर्यात। ऐसी मुद्राओं को फॉरेक्स पर कमोडिटी करेंसिस कहा जाता है।

कमोडिटी करेंसिस की विशेष विशेषता यह है कि इन देशों की अर्थव्यवस्था कच्चे माल - तेल, गैस, धातु और कृषि वस्तुओं के निर्यात पर आधारित होती है। ऐसे बहुत से देश हैं जिनकी मुद्राएं इस परिभाषा के अनुरूप हैं। सबसे उन्नत निर्यात-निर्भर अर्थव्यवस्थाएं कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड हैं। चूंकि इन देशों की मुद्रा डॉलर (प्रत्येक देश में स्थानीय) है, इसलिए उन्हें कमोडिटी डॉलर या कॉमडॉल आम तौर पर कहा जाता है। तथ्य यह है कि कमोडिटी एक्स्पोर्टस इन देशों के लिए आर्थिक कल्याण का मुख्य फ़ैक्टर है, जब भी कमोडिटी की कीमतें बढ़ती हैं, तो उनकी राष्ट्रीय मुद्राओं के मूल्य में वृद्धि होती है, और इसके विपरीत। यही कारण है कि विशेषज्ञ वैश्विक बाजार में कमोडिटी करेंसिस के साथ तेल की कीमत के सहसंबंध (इंटरैक्शन) की ओर इशारा करते हैं।

कैनेडियन डॉलर (CAD), ऑस्ट्रेलियाई डॉलर (AUD), और न्यूजीलैंड डॉलर (NZD) फॉरेक्स पर सबसे अधिक ट्रेड होने वाली मुद्राओं में से हैं। इसलिए, कमोडिटी करेंसिस के रूप में उनकी बारीकियों को समझना निश्चित रूप से करेंसी मार्केट में सफल ट्रेड में योगदान देगा। अब, आइए प्रत्येक कमोडिटी करेंसी पर अलग से विचार करें और उनमें से प्रत्येक के लिए टिप्पणियाँ दें।

कनाडा सऊदी अरब के बाद अपने दूसरे सबसे बड़े तेल भंडार के लिए प्रसिद्ध है। तेल को "काला सोना" कहा जाता है, जिसका अर्थ है कि विश्व क्षेत्र में इस वस्तु की मांग बहुत ज्यादा है। इसलिए, अपने लाभप्रद स्थान के कारण, कनाडा दुनिया का प्रमुख तेल निर्यातक प्रतीत होता है। कनाडा के प्रमुख आयातक होने के कारण USA में इस संसाधन की आपूर्ति कम है। इसलिए, तेल की कीमत में उतार-चढ़ाव USD/CAD पेयर की रेट को विपरीत अनुपात में दर्शाता है। कनाडाई डॉलर की अभिमुल्यन के बीच तेल की कीमतों में वृद्धि USD/CAD को नीचे धकेल देती है। तेल की कीमत और USD/CAD रेट के बीच विपरीत संबंध है। जनवरी 1988 के बाद से, विश्लेषकों ने ऑइल डाइनैमिक और USD/CAD के बीच 68% से अधिक व्युत्क्रम सहसंबंध दर्ज किया - यह बल्कि मजबूत अंतर्संबंध है! यदि आप इस तथ्य को जानते हैं, तो यह आपको फॉरेक्स पर USD/CAD की डाइनैमिक की भविष्यवाणी करने में बहुत मदद करेगा।

ऑस्ट्रेलिया की अर्थव्यवस्था ज्यादातर रिफाइन्ड सोने के निर्यात पर निर्भर करती है जो देश के निर्यात का 50% से अधिक हिस्सा है। यह सोने के फील्ड्स के कारण होता है जो ऑस्ट्रेलिया के पास अपनी भौगोलिक स्थिति के कारण है। सोने की वैश्विक कीमत और AUD/USD रेट का तेल की कीमत और USD/CAD पेयर की तुलना में अधिक मजबूत संबंध है। जनवरी 1980 से 2006 तक, AUD/USD और सोने की कीमतों में उतार-चढ़ाव लगभग बराबर था। इसके अलावा, AUD/USD ट्रेंड रिवर्सल से पहले सोने की प्रवृत्ति के उलट होने की प्रवृत्ति थी। 2005/2006 में, सोने की कीमत बढ़ने पर सहसंबंध बदल गया, जबकि ऑस्ट्रेलियाई डॉलर बनाम अमेरिकी मुद्रा का कोई अपट्रेंड नहीं था। फिर भी, सहसंबंध लंबी अवधि में बना रहता है और इसे फॉरेक्स पर एक अतिरिक्त पूर्वानुमान साधन के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। आपको पता होना चाहिए कि सोने की वैश्विक कीमत और AUD/USD का सीधा संबंध है।

न्यूजीलैंड की अर्थव्यवस्था ज्यादातर निर्यात के साथ-साथ उसके पश्चिमी पड़ोसी देश पर भी निर्भर करती है। लेकिन ऑस्ट्रेलिया और कनाडा के विपरीत, न्यूजीलैंड के निर्यात में किसी खास प्रकार के कच्चे माल का बोलबाला नहीं है। देश डेयरी सामान, मांस, मछली, लकड़ी, ऊन आदि की आपूर्ति करता है। बेची जाने वाली कच्ची वस्तुओं की इतनी बड़ी विविधता के कारण, कमोडिटी रिसर्च ब्यूरो इंडेक्स (CRB इंडेक्स) का उपयोग निर्यात की गई वस्तुओं की कीमतों और राष्ट्रीय मुद्रा दर का संबंध अमेरिकी डॉलर के मुकाबले निर्धारित करने के लिए किया जाता है। यह सूचकांक प्रमुख वस्तुओं को शामिल करता है और दुनिया में इंफलेसन ग्रोथ इन्डिकेटर की तरह प्रतीत होता है। CRB इंडेक्स वैल्यू और NZD/USD का सीधा संबंध है। यह ज्ञान फॉरेक्स पर विश्लेषण और पूर्वानुमान को सरल बना सकता है।

संक्षेप में, केवल एक मध्यम और लंबी अवधि में कमोडिटी की कीमतों और फॉरेक्स पर कमोडिटी करेंसी रेट्स के बीच संबंध को ध्यान में रखना बेहतर है। इसके अलावा, याद रखें कि निर्यात वस्तु-निर्भर अर्थव्यवस्था का एक हिस्सा मात्र है। फॉरेक्स पर कमोडिटी मुद्राओं के साथ किसी पोजीशन को ओपन या क्लोज़ करने के बारे में निर्णय लेते हुए, सुनिश्चित करें कि आप देश की अर्थव्यवस्था को प्रभावित करने वाले अन्य कारकों से अवगत हैं, जैसे: रिफ़ाईनैनसिंग रेट , देश में राजनीतिक स्थिति आदि।


अपनी राय साझा करें

धन्यवाद! क्या कोई ऐसी बात है जो आप जोड़ना पसंद करेंगे?

आपको प्राप्त उत्तर का मूल्यांकन आप कैसे करेंगे?

अपनी टिप्पणी दें (वैकल्पिक)

आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है।
हमारे ऑनलाइन सर्वेक्षण को पूरा करने के लिए समय निकालने के लिए धन्यवाद!

smile""