Support service
×

चैप्टर 4. फॉरेक्स ट्रेडिंग के प्रकार

फॉरेक्स एक्सचेंज ट्रांजैक्शन की अवधारणा वर्तमान वित्तीय स्थिति से काफी जुड़ी हुई होती है। हम कीमती धातुओं के बाजार, क्रेडिट बाजार, शेयर बाजार और फॉरेक्स को अलग-अलग वित्तीय बाजारों के रूप में वर्गीकृत करते हैं जहाँ फॉरेक्स एक्सचेंज ट्रांजैक्शन में वित्तीय साधनों का इस्तेमाल किया जाता है। यह लेख केवल उन वित्तीय साधनों को कवर करेगा जो फॉरेक्स मार्केट में इस्तेमाल किए जाते हैं। एक फॉरेक्स एक्सचेंज ट्रांजैक्शन दो पक्षों के बीच एक मुद्रा बेचने और दूसरी मुद्रा खरीदने का एक समझौता है। इस तरह के ट्रांजैक्शन की एक निश्चित तारीख और कीमत होती है। फॉरेक्स ट्रांजैक्शन हर उस तारीख (वैल्यू डेट) में अलग होता है जब खाते में पैसा जमा किया जाता है। इसलिए, विदेशी मुद्रा ट्रांजैक्शन को दो प्रकारों में विभाजित किया जा सकता है: स्पॉट विदेशी मुद्रा ट्रांजैक्शन और फॉरवार्ड विदेशी मुद्रा ट्रांजैक्शन।

अधिकांश फॉरेक्स डील्स स्पॉट ट्रांजैक्शन में होते हैं। ट्रांजैक्शन पूरा होने के बाद दूसरे कार्य दिवस को यथाविधि किसी स्पॉट डील का मूल्य तिथि (वैल्यू डेट) माना जाता है। बाजार सहभागियों के लिए ऐसी स्थितियां बहुत सुविधाजनक होती हैं क्योंकि उनके पास दस्तावेजों से निपटने के लिए पर्याप्त समय होता है। वह बाजार जहां मुद्रा का विनिमय स्पॉट भाव पर होता है, स्पॉट बाजार कहलाता है। इस बाजार में भुगतान तत्काल होता है।

विशेष रूप से, स्पॉट ट्रांजैक्शन के लिए पारस्परिक निपटान का यह सिद्धांत बड़े निवेशकों के लिए काफी सही रहता है। निजी निवेशकों (विभिन्न ब्रोकरेज फर्मों के ग्राहकों) के लिए जो इंटरनेट के माध्यम से फॉरेक्स बाजार में ट्रेडिंग करते हैं, बस एक बटन पर क्लिक करने के तुरंत बाद ट्रांजैक्शन पूरा हो जाता है। ऐसे ट्रांजैक्शन के लिए मूल्य तिथि (वैल्यू डेट) महत्वपूर्ण नहीं होती है क्योंकि ग्राहक का खाता हमेशा फॉरेक्स बाजार के वर्तमान ट्रेडिंग को दर्शाता है।

फॉरवर्ड फॉरेन एक्सचेंज ट्रांजैक्शन में फॉरवर्ड, फ्यूचर्स, ऑप्शंस और स्वैप शामिल हैं। उन्हें डेरिवेटिव भी कहा जाता है। इस तरह के वित्तीय साधन विशेष रूप से बिजनेस के लिए बनाए गए थे क्योंकि ये मूल्य में उतार-चढ़ाव के संभावित जोखिमों को कम करने में मदद करते हैं। एक ऐसे निजी निवेशक के लिए जो फॉरेक्स बाजार में लाभ कमाना चाहता है, ये वित्तीय साधन इतने महत्वपूर्ण नहीं हैं। फिर भी, हम समग्र तस्वीर को समझने के लिए इन उपकरणों के बारे में चर्चा करेंगे।

फॉरवर्ड अनुबंध कान्ट्रैक्टर्स के बीच आपसी सहमति से मूल्य और दिन (निपटान तिथि) तय करके एक निश्चित मात्रा में मुद्रा का आदान-प्रदान करने की शर्तों के तहत निष्पादित किए जाते हैं। करेंट (या स्पॉट) कीमत की परवाह किए बिना सौदा तय कर दिया जाएगा।

उदाहरण के लिए, एक फॉरवर्ड अनुबंध उस समय उपयोगी साबित होगा जब कोई रूसी कंपनी अमेरिकी डॉलर में विदेशी उपकरण खरीदने की योजना बना रही हो। आइए हम कल्पना करें कि इस कंपनी के पास सौदा तय करने के लिए पर्याप्त पैसा नहीं है, लेकिन वे उम्मीद करते हैं कि एक महीने के भीतर रूबल को एक भुगतान खाते में स्थानांतरित कर दिया जाएगा। इसके अलावा, कंपनी की परिकल्पना है कि कंपनी के लिए दर (रेट) एक नकारात्मक क्षेत्र में आ जाएगी, इसका मतलब डॉलर बढ़ेगा। इस स्थिति में, बैंक के साथ एक महीने की भुगतान तिथि और कंपनी के लिए लाभदायक मूल्य पर आवश्यक अमरीकी डालर खरीदने का फॉरवर्ड अनुबंध तय करना सबसे सही लगता है। स्वाभाविक रूप से, एक कान्ट्रैक्टर को खोजने में कठिनाइयाँ हो सकती हैं क्योंकि बैंक भी उम्मीद करते हैं कि अमेरिकी डॉलर बढ़ेगा।

एक ओर, फॉरवर्ड अनुबंध कम जोखिम वाले होते हैं लेकिन दूसरी ओर वे लाभ में कटौती का कारण बन सकते हैं। यदि अमेरिकी डॉलर गिरता है, तो कंपनी उपकरणों के लिए कम भुगतान करने का अवसर खो देती है।

फॉरवर्ड अनुबंधों के विपरीत, फ्यूचर्स में मानक मैट्युरिटी तिथियां और निश्चित मुद्रा मात्रा होती है। इस सुविधा के कारण उन्हें सामान्य सिक्युरिटी के रूप में बेचा जा सकता है। फ्यूचर्स बाजार में फ्यूचर्स ट्रेड किया जाता है। फ्यूचर्स अनुबंध निष्पादन का औसत समय लगभग तीन महीने का होता है।

ऑप्शंस फ्यूचर्स के समान होते हैं लेकिन ऑप्शंस ट्रेडिंग में जोखिम कम होता है। इसलिए यदि आप ऑप्शंस खरीदते हैं, तो आपको सहमत शर्तों पर व्यापार बंद करना होगा। यदि आप ऑप्शंस खरीदते हैं, तो आपको व्यापार बंद करने से मना करने की अनुमति होती है। ऑप्शंस मार्केट में ऑप्शंस का कारोबार होता है।

एक स्वैप अनुबंध दो पक्षों के बीच पूर्व निर्धारित अंतराल पर संपत्ति का आदान-प्रदान करने के लिए एक समझौता होता है। उदाहरण के लिए, एक बैंक से कंपनी स्पॉट मूल्य पर रूबल से $1,000 खरीदती है, जिसमें एक महीने में वर्तमान फॉरेक्स मार्केट के स्पॉट मूल्य पर बैंक को रूबल के लिए $1,000 वापस बेचने की देयता होती है। स्वैप अनुकूलित अनुबंध होते हैं। इसलिए उनकी ट्रेडिंग एक्सचेंज पर नहीं होती है।

सभी फॉरेक्स डील्स (वित्तीय साधनों) में, एक निवेशक के लिए स्पॉट ट्रांजैक्शन सबसे महत्वपूर्ण है।


अपनी राय साझा करें

धन्यवाद! क्या कोई ऐसी बात है जो आप जोड़ना पसंद करेंगे?

आपको प्राप्त उत्तर का मूल्यांकन आप कैसे करेंगे?

अपनी टिप्पणी दें (वैकल्पिक)

आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है।
हमारे ऑनलाइन सर्वेक्षण को पूरा करने के लिए समय निकालने के लिए धन्यवाद!

smile""