Support service
×

चैप्टर 16 फॉरेक्स और स्टॉक मार्केट: क्या अंतर है?

जब हम फ़ाईनैनसियल मार्केट में ट्रेड करने के बारे में बात करते हैं, तो हमें प्रत्येक प्रकार के बाजार सहभागियों की एक विशेष दृष्टिकोण की आवश्यकता होती है। फ़ाईनैनसियल मार्केट में इक्विटी मार्केट, क्रिप्टो मार्केट, फॉरेक्स और गोल्ड मार्केट सहित विभिन्न कमोडिटी मार्केट शामिल हैं। आप एक मार्केट को दूसरे मार्केट से बाहर नहीं मान सकते क्योंकि वैश्विक अर्थव्यवस्था में हो रहे सभी विकास आपस में जुड़े हुए होते हैं। स्टॉक मार्केट की स्थिति फॉरेक्स पर करेंसी रेट्स को प्रभावित कर सकती है जो बदले में गोल्ड मार्केट को प्रभावित कर सकती है। विपरीत कथन सत्य भी हो सकते हैं। हालांकि, इस अध्याय में हम फाॅरेन एक्सचेंज मार्केट और स्टॉक मार्केट पर विस्तार से चर्चा करेंगे ताकि हम प्रतिभागियों (ब्रोकर्स, डीलर्स, ट्रेडर्स) के लिए उनके फायदे और नुकसान का पता लगाने का प्रयास कर सकें।

इस अध्याय से पहले ही हम करेंसी एक्सचेंज मार्केट की मूल बातें सीख चुके हैं। आइए अब हम स्टॉक मार्केट के बारे में एक अंतर्दृष्टि प्राप्त करते हैं। स्टॉक मार्केट में स्टॉक इंस्ट्रूमेंट्स या सेक्यूरिटीज का कारोबार होता है। एक सिक्युरिटी संपत्ति के स्वामित्व का कुछ हद तक सबूत है, जिस पर नियंत्रण इस पूंजी द्वारा हुए लाभ को साझा करने के अधिकार के लिए स्थायी या अस्थायी आधार पर दूसरों को दिया जाता है। दूसरे शब्दों में, एक स्टॉक मार्केट इंस्ट्रूमेंट एक लीगल टाइटल दस्तावेज है जिसका उपयोग मांग पर किया जा सकता है। शेयर, बांड, डेरिवेटिव (वारंट्स ,फ्यूचर्स, ऑप्शन्स), सर्टिफिकेट ऑफ डिपॉजिट और नोट्स सेकुरिटीज के ग्रुप में शामिल है। आइए हम इनके प्रत्येक प्रकार का संक्षेप में वर्णन करें।

शेयर्स मुख्य प्रकार की सेकुरिटीज हैं। वे एक जॉइन्ट स्टॉक कंपनी के लाभ के हिस्से में धारक के स्वामित्व अधिकारों का निर्धारण करते हैं। एक शेयरहोल्डर एक निगम की पूंजी में अपनी इक्विटी हिस्सेदारी रखता है। पर्सनल शेयर, शेयर वारंट, ऑर्डिनरी और प्रेफर्ड शेयर होती हैं। पहले दो प्रकार स्व-व्याख्यात्मक हैं। ऑर्डिनरी शेयर शेयरधारकों को एक आम बैठक में मतदान का अधिकार देता है, और लाभांश की राशि जिसका भुगतान किया जाता है, वह कंपनी के वार्षिक वित्तीय परिणामों से निर्धारित की जाती है। प्रेफर्ड शेयरों के धारकों को निश्चित लाभांश का भुगतान किया जाता है, लेकिन उनके पास मतदान का अधिकार नहीं होता है। जैसा कि आप देख सकते हैं, शेयर अपने धारकों को पूंजी के हिस्से का मालिक होने का अधिकार देते हैं और लाभांश के रूप में लाभ प्राप्त करवाते हैं।

बांड डेब्ट सेकुरिटीज हैं। वे पहले से सहमत तरीके से लाभ कमाने के अधिकार के बदले जारीकर्ता (जो प्रचलन में बांड जारी करते हैं) को नकद ऋण देने के तथ्य की पुष्टि करते हैं। एक नियम के रूप में, बांड इशू कोस्ट या नोमिनल बांड कोस्ट की एक निश्चित वार्षिक ब्याज दर से लाभ प्राप्त होता है। सरकारी और कॉरपोरेट बॉन्ड भी होते हैं। सरकारी बांड अधिक विश्वसनीय लेकिन कम लाभदायक होते हैं। इसके विपरीत, कॉरपोरेट बॉन्ड अधिक लाभकारी लेकिन कम विश्वसनीय होते हैं। जैसा कि किसी भी अन्य मामले में होता है, लाभप्रदता और जोखिम सीधे तौर पर परस्पर जुड़े होते हैं - जोखिम जितना अधिक होगा, धारक को लाभ उतना ही अधिक होगा।

स्टॉक मार्केट के पास अपने डेरिवेटिव्स के साथ-साथ फॉरेक्स मार्केट भी है। इसलिए, स्टॉक डेरिवेटिव्स में वारंट शामिल होते हैं, जोकि वो सेकुरिटीज होते हैं जो कुछ शर्तों के तहत शेयरों को खरीदने/बेचने के अधिकार को परिभाषित करती हैं या अन्य शेयरों के लिए विनिमय करती हैं।

फ्यूचर्स भविष्य में एक निश्चित संख्या में शेयर खरीदने/बेचने के लिए मानक अनुबंध हैं, जो अनुबंध करने के समय तय की गई कीमत पर होते हैं। खरीददार और विक्रेता दोनों को भविष्य की शर्तों को पूरा करना होत है। शर्तों की पूर्ति की गारंटी के लिए, दोनों पक्षों को एक सिक्युरिटी डिपॉजिट का भुगतान करना पड़ता है, जिसका साइज़ शेयर मार्केट द्वारा निर्धारित किया जाता है और जिसे एक्सचेंज पर संग्रहीत किया जाता है जहां लेनदेन होता है।

ऑपसंस फ्यूचर्स कोन्ट्रैक्टस के समान सेकुरिटीज हैं, सिवाय इसके कि वे बायर पर दायित्व नहीं डालते हैं, लेकिन केवल एक निर्दिष्ट मूल्य पर एक निर्दिष्ट संख्या में सेकुरिटीज को खरीदने या बेचने का अधिकार देते हैं। अमेरिकी ऑपसंस का उपयोग किसी भी समय पर्चेज डेट और एक्सपैयरासन डेट के बीच किया जा सकता है। यूरोपीय ऑपसंस को केवल एक्सपैयरासन डेट पर ही भुनाया जा सकता है। ऑपसन सेलर अनुबंध की शर्तों को पूरा करने के लिए बाध्य है; इसलिए वह जोखिम उठाता है। इसके अलावा, एक ऑपसन बायर एक ऑपसन सेलर को प्रीमियम का भुगतान करता है। यदि कोई ऑपसन बायर सौदे की शर्तों को पूरा करने से इनकार करता है, तो उसे प्रीमियम वापस नहीं मिलेगा। सौदे की शर्तों की पूर्ति की गारंटी के लिए, एक सेलर फ्यूचर्स सिक्युरिटी डिपॉजिट के समान एक पलेज जमा करता है। पलेज का साइज़ स्टॉक एक्सचेंज द्वारा निर्धारित किया जाता है और वहां संग्रहीत किया जाता है। वास्तव में, बायर द्वारा भुगतान की गई प्रीमियम राशि ऑपसन ट्रेडिंग का उद्देश्य है।

सिक्युरिटीज में सर्टिफिकेट भी शामिल हैं। एक सर्टिफिकेट बैंक द्वारा धन जमा करने का लिखित प्रमाण है। एक सर्टिफ़िकेट डिपॉजिटर को अनुबंध की समाप्ति पर जमा राशि और उसके लिए अर्जित ब्याज प्राप्त करने का अधिकार देता है। डिपॉजिटर के लीगल बॉडी होने की स्थिति में सर्टिफिकेट ऑफ डिपॉजिट दिया जाता है। अगर डिपॉजिटर एक व्यक्ति है तो सेविंग्स सर्टिफिकेट दिया जाता है।

बिल एक प्रकार का डेब्ट इंस्ट्रूमेंट है जो अपने बायर को बिल एक्सपैयरासन पर संकेतित राशि के भुगतान की मांग करने का अधिकार देता है। बिल्स ऑफ एक्सचेंज और प्रोमिसरी नोट्स भी हैं। एक प्रोमिसरी नोट एक निश्चित राशि का भुगतान करने का वादा है, जो एक डेब्टर द्वारा निकाला जाता है और एक क्रेडिटर को दिया जाता है। बिल्स ऑफ एक्सचेंज एक क्रेडिटर द्वारा तैयार किया जाता है और इसे डेब्टर द्वारा ही स्वीकार या विरोध किया जा सकता है। स्वीकृति के मामले में, एक क्रेडिटर बिल ऑफ एक्सचेंज में निर्दिष्ट राशि को चुकाने के लिए सहमत होता है।

अब एक्सचेंज मार्केट के फाइनैनसियल इन्स्ट्रूमेंट्स में अंतर्दृष्टि प्राप्त करने के बाद, आइए हम इस तरह के ट्रेडिंग की बारीकियों पर ध्यान देते हैं। फॉरेक्स के विपरीत, शेयर मार्केट में लोकेशन रीस्ट्रिक्टशन होता है। ट्रेडिंग का स्थान स्टॉक एक्सचेंज है। स्टॉक एक्सचेंज दुनिया के प्रमुख वित्तीय केंद्रों में स्थित है; विभिन्न स्टॉक एक्सचेंजों में शेयर टाइप्स और मार्केट कॉट्स भिन्न हो सकते हैं। हालांकि, इंटरनेट विकास के कारण स्टॉक एक्सचेंजों के पास आर्बिट्रेज लेनदेन के निष्पादन को कम करने के लिए अपने कॉट्स का तेजी से आदान-प्रदान करने का अवसर होता है। आर्बिट्रेज लेन-देन एक स्टॉक एक्सचेंज में एक शेयर खरीद को और अधिक लाभकारी मूल्य पर बेचने को मानते हैं। फॉरेक्स पर आर्बिट्रेज ऑपरेशन असंभव है, क्योंकि करेंसी मार्केट में ट्रेड्स का केंद्रीकृत स्थान नहीं है।

स्टॉक एक्सचेंज में बाई/सेल के संचालन के लिए, बायर और सेलर के लिए एक दूसरे को ढूंढना आवश्यक है। इस तथ्य के कारण, स्टॉक एक्सचेंज में प्रतिभागियों की संख्या सीमित है; फॉरेक्स पर ट्रेड वॉल्यूम की तुलना में शेयर ऑपरेशन लिक्विडिटी बहुत कम है। स्टॉक एक्सचेंज में आपको अपने शेयरों के लिए बायर नहीं मिल सकता है, इस प्रकार आपको नुकसान भी उठाना पड़ सकता है, यदि आपके शेयर नाटकीय रूप से गिरते हैं। फॉरेक्स के विपरीत, शेयर मार्केट में आप स्पेक्युलेटिव ऑपरेशन से केवल स्टॉक एपरिसीएसन के माध्यम से लाभ प्राप्त कर सकते हैं। दूसरे शब्दों में, आपको शेयरों को अधिक कीमत पर बेचने के लिए कम कीमत पर खरीदना होगा। आपके पास जो शेयर नहीं है, उन्हें बेचना असंभव है, हालांकि इस तरह के प्रतिबंधों से बचने की कुछ उपाय हैं। उदाहरण के लिए, एक रिवर्स रिपर्चेज त्रांजैकसन करने के दायित्व के साथ, वास्तव में उनके बिना सेकुरिटीज को बेचने का एक काल्पनिक सौदा कर सकता है - ऐसी सेवा एक्सचेंज इंटेरमेडियरिज द्वारा शेयर मार्केट के निजी ट्रेडर्स को प्रदान की जाती है।

शेयर मार्केट में, आप फॉरेक्स बाजार की तरह मार्जिन ट्रेडिंग का लाभ नहीं उठा सकते। आप केवल उपलब्ध फंड के लिए ही शेयर खरीद सकते हैं। शेयरों को केवल सट्टा लगाने के उद्देश्य से ही नहीं खरीदा जाता है। जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया था, शेयर, मालिक को कंपनी की पूंजी का एक हिस्सा रखने का अधिकार, एक सामान्य शेयरधारक को बैठक में मतदान में भाग लेने और लाभांश प्राप्त करने की अनुमति देते हैं। इसलिए आप केवल आगे की बिक्री के लिए ही शेयर नहीं खरीद सकते। उस स्थिति में, "ओपन्ड एण्ड क्लोज़ड पोजीशन" और "लीवरेज" जैसे शब्द अप्रासंगिक हो जाते हैं।

फॉरेक्स के विपरीत, जो चौबीसों घंटे काम करता है, शेयर बाजार कुछ घंटे ही संचालित होते हैं। घंटे स्टॉक एक्सचेंज के कार्यसूची द्वारा निर्धारित किए जाते हैं (आमतौर पर प्रति सप्ताह 8 घंटे)। यदि आप किसी स्टॉक एक्सचेंज पर ऑनलाइन ट्रेड करते हैं और आप उसके टाइम ज़ोन में नहीं हैं - तो ट्रेड करने में आपको कुछ असुविधाएँ आती हैं। स्टॉक एक्सचेंज के काम के घंटे आपके क्षेत्र में रात के समय हो सकते हैं और आपको नींद की कमी से पीड़ित कर सकते हैं। इस प्रकार, आपके पास फॉरेक्स पर 24 घंटे में ट्रेड करने के अधिक अवसर हैं।

सफल स्टॉक ट्रेडिंग के लिए मार्केट विश्लेषण का उपयोग पर्याप्त नहीं है जो कि फॉरेक्स पर आम बात है। तकनीकी और मौलिक विश्लेषण का उपयोग स्टॉक की गतिशीलता की भविष्यवाणी के लिए किया जा सकता है, लेकिन कंपनी की गतिविधि को प्रभावित करने वाले सूक्ष्म आर्थिक कारक भी बहुत महत्व रखते हैं। एक खरीद / बिक्री सौदे पर सही निर्णय लेने के लिए  आपको वित्तीय विवरणों तक पहुंच की आवश्यकता है, एक कंपनी में कर्मियों के परिवर्तन के बारे में जानकारी, और उसके उत्पादों के लिए सरकारी आदेश। विदेशों के लिए, ऐसी जानकारी केवल विदेशी स्रोतों से उपलब्ध होती है: टेलीविजन, समाचार पत्र, पत्रिकाएं, वित्तीय पत्रिकाएं। इसके अलावा, यह जानकारी एक विदेशी भाषा में प्रकाशित की जाती है जिसे समझना कई लोगों के लिए मुश्किल हो सकता है।

महत्वपूर्ण रूप से, फॉरेक्स फाइनैनसियल इन्स्ट्रूमेंट्स के विपरीत, स्टॉक एक्सचेंज के उपरोक्त फाइनैनसियल इन्स्ट्रूमेंट्स के अपने फायदे हैं, उदाहरण के लिए, शेयरों के लिए लाभांश प्राप्त करने का अधिकार, कंपनी के प्रबंधन में भाग लेने का अवसर, गवर्नमेंट सेकुरिटीज का मोचन, और बांड पर कूपन भुगतान। ये लाभ स्टॉक एक्सचेंज में ट्रेडिंग करते समय नुकसान के जोखिम को आंशिक रूप से कम करते हैं।

इस अध्याय में हमने फॉरेक्स मार्केट और शेयर मार्केट की तुलना की है। हमने पाया कि उनमें से प्रत्येक के अपने फायदे और नुकसान हैं जो निवेशकों के लिए अपने तरीके से आकर्षक हैं। अगले अध्याय में, हम विस्तृत रूप से देखेंगे कि ये मार्केट कैसे संबंधित हैं और समझाएंगे कि एक मार्केट का पूर्वानुमान दूसरे बाजार पर ट्रेडिंग निर्णय लेने में कैसे मदद कर सकता है।


अपनी राय साझा करें

धन्यवाद! क्या कोई ऐसी बात है जो आप जोड़ना पसंद करेंगे?

आपको प्राप्त उत्तर का मूल्यांकन आप कैसे करेंगे?

अपनी टिप्पणी दें (वैकल्पिक)

आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है।
हमारे ऑनलाइन सर्वेक्षण को पूरा करने के लिए समय निकालने के लिए धन्यवाद!

smile""