Support service
×

हेजिंग

हेजिंग कन्ट्रेरी या अपोजिंग मार्केट में एक पोजीशन ओपन करने पर ग्राहक के फंड को प्रतिकूल कीमत के उतार-चढ़ाव से बचाने का एक तरीका है।
हेजिंग: फॉरवर्ड डील सेटलमेंट के समय तक संभावित नुकसान से सुरक्षा सुनिश्चित करता है; उच्च लेनदेन में लचीलापन और दक्षता प्रदान करता है; वास्तविक वस्तुओं के ट्रेड से संबंधित लागत को कम करता है; नुकसान के जोखिम को कम करता है क्योंकि कमोडिटी की कीमतों में बदलाव की भरपाई फ्यूचर्स पर लाभ से होती है।
 
नियमतः, नुकसान या तो स्टॉप लॉस तक पहुंचने पर या जब कीमत उलट जाती है और सही दिशा में जाती है तब तक सीमित होता है। ये परिदृश्य सुप्रसिद्ध हैं, इसलिए अब उन्हें करीब से जानने की कोई आवश्यकता नहीं है। बात यह है कि जो ट्रेडर मनी मैनेजमन्ट का उपयोग नहीं करते हैं वे जितना चबा सकते हैं उससे अधिक काटते हैं, जबकि वो जो रिस्क मैनेजमेंट का उपयोग नहीं करते वे हमेशा अटैक करते हैं लेकिन कभी डिफेंड नहीं करते।
 
फॉरेक्स पर हेजिंग जोखिमों से सुरक्षा और लाभ की गारंटी का एक अनिवार्य तत्व है। यहां एक सरल उदाहरण दिया गया है: आपने MACD इन्डिकेटर के संकेतों के आधार पर EUR/USD पेयर पर एक सेल पोजीशन ओपन किया है। फिर, आपको लगातार तीन बार लाभ हुआ। लेकिन अचानक कीमत ऊपर की ओर बढ़ गई, और पिछले चौबीस घंटों से आपका घाटा बढ़ रहा है। यहीं पर हेजिंग होती है। तो, इसे सही तरीके से कैसे करें? थोड़ा सा गणित और विश्लेषण हमारी मदद करेगा।
 
पोजिशन लॉकिंग भी एक लोकप्रिय उपकरण है, जो सबसे अच्छा अप्रभावी है और जिससे अक्सर आत्म-धोखा होता है। इसके अलावा, यह हमेशा एक निगेटिव स्वैप के साथ आता है, क्योंकि पेयर पर पॉजिटिव स्वैप निगेटिव से कम होता है। नतीजतन, इस तरह की कार्रवाई मूवमेंट की निरंतरता के आधार पर पोजीशन रिवर्सल और फिर फर्स्ट पोजीशन्स पॉइंट पर पूरी तरह से वापसी से शायद ही भिन्न होती है।
 
इस प्रकार, किसी भी नुकसान का कारण एक अनएक्सपेक्टेड करेंसी मूव है (करेंसी मार्केट का जिक्र करते हुए)। ध्यान दें कि यह करेंसी है, करेंसी पेयर नहीं! यदि आप देखते हैं कि EUR/USD पेयर में सेल पोजीशन पर नुकसान का कारण डॉलर का गिरना है, तो काफी संभव है कि परिसंपत्ति को अमेरिकी डॉलर के अलावा किसी अन्य करेंसी पेयर में स्थानांतरित करके इस स्थिति का लाभ उठाया जाए। ऐसा करने के लिए, निम्नलिखित निर्धारित करना आवश्यक है:
 
1) ऐसे पेयर या पेयर्स खोजें जो EUR/USD के साथ अच्छी तरह से संबंध रखते हों।
 
2) सुनिश्चित करें कि यह उपकरण (-ण्स) पहले वाले (-वालों) की तुलना में अधिक अस्थिर है ताकि लाभ हानि से अधिक हो।
 
3) अमेरिकी डॉलर पर अपोजिट पोजीशन (-न्स) ओपन करें। महत्वपूर्ण: पोजिशन्स को समान अनुपात में खोला जाना चाहिए।
 
यह इसलिए मायने रखता है क्योंकि EUR/USD लॉट GBP/USD लॉट के बराबर नहीं है। अंतर प्राइस प्रति पिप (उदाहरण के लिए, USD/JPY) और एक पेयर की अस्थिरता में निहित है। पोजीशन को किसी अन्य पेयर पर प्रभावी ढंग से स्थानांतरित करने के लिए इन कारकों को अनुमति दी जानी चाहिए। अन्यथा, विसंगतियां बहुत गंभीर हो सकती हैं। हमारे लिए शुरुआती बैलेंस ज्यादा जरूरी है, फिर नुकसान की तुलना में ज्यादा प्रॉफिट आता है। अगला लक्ष्य रैली समाप्त होने के बाद एक स्विंग इफेक्ट प्राप्त करना है जो EUR/USD पेयर पर नुकसान लाए और GBP/USD पर लाभ उत्पन्न करे। एक स्ट्रॉंग मूवमेंट के बाद कॉनसॉलिडेशन फेज आता है, और एक निश्चित क्षण में, पहली पेयर पर नुकसान कम हो रहा होता है। इस पॉइंट पर, आपके पास लाभ के साथ किसी पोजीशन से बाहर निकलने की अच्छी संभावनाएं हैं। टोटल पॉजिटिव स्वैप्स आपको अतिरिक्त समर्थन देंगे। वास्तव में, इस पद्धति का उपयोग करके, आप निवेशित संपत्तियों को EUR/GDP पेयर में स्थानांतरित कर सकते हैं। हमने एक साधारण उदाहरण लिया। हालांकि, बेहतर परिणाम प्राप्त करने के लिए अतिरिक्त करेंसी पेयर के साथ अधिक जटिल संयोजनों का उपयोग किया जा सकता है।
 
कोरिलेशन की डिग्री निर्धारित करने के लिए, आमतौर पर लिनीयर कोरिलेशन के सूत्र पर आधारित एल्गोरिथ्म का उपयोग किया जाता है, जो MT4 इन्डिकेटर से जुड़ा होता है। यह भी ध्यान देने योग्य है कि हेजिंग के तरीके काफी विविध हैं। इस प्रकार, दिया गया उदाहरण सामान्य करेंसिज के बिना पेयर का भी उपयोग कर सकता है। हालांकि, इस मामले में, लाभ/हानि प्रसार अधिक हो सकता है। हेजिंग की कुंजी आपके फंड में विविधता लाकर आवश्यक संतुलन हासिल करना है।
 
हेजिंग के प्रकार:
 
क्लासिकल हेजिंग
 
क्लासिकल हेजिंग का अर्थ मार्केट में अपोजिट पोजीशन रखना है। इस हेजिंग पद्धति का उपयोग शिकागो, यूएसए में कृषि उत्पादों के डीलरों द्वारा किया गया था।
 
फूल और पर्शियल हेजिंग
 
फूल हेजिंग में लेनदेन की पूरी राशि के लिए जोखिमों से सुरक्षा शामिल है। इस प्रकार की हेजिंग मूल्य जोखिमों से संबंधित संभावित नुकसान को पूरी तरह से समाप्त कर देती है। पर्शियल हेजिंग वास्तविक लेनदेन के केवल एक हिस्से का बीमा करती है।
 
एन्टिसिपेटरी हेजिंग
 
एन्टिसिपेटरी हेजिंग में फिजिकल मार्केट में डील होने से पहले अच्छी तरह से खरीदना या बेचना शामिल है। फ्यूचर्स मार्केट में एक डील के समापन और फिजिकल मार्केट में एक डील के समापन के बीच की अवधि में, एक फ्यूचर्स कान्ट्रैक्ट माल की आपूर्ति के लिए एक रियल कान्ट्रैक्ट के विकल्प के रूप में कार्य करता है। साथ ही एन्टिसिपेटरी हेजिंग को तत्काल वस्तु की खरीद या बिक्री में लागू किया जा सकता है और स्टॉक एक्सचेंज के माध्यम से उसके बाद निष्पादन किया जा सकता है। स्टॉक मार्केट में इस प्रकार की हेजिंग सबसे आम है।
 
सिलेक्टिव हेजिंग
 
सिलेक्टिव हेजिंग में, फ्यूचर्स मार्केट और स्पॉट मार्केट डील ऑर्डर निष्पादन की मात्रा और समय में भिन्न होते हैं।
 
क्रॉस हेजिंग
 
क्रॉस हेजिंग की विशेषता यह तथ्य है कि फ्यूचर्स मार्केट के संचालन में फिजिकल मार्केट में अंतर्निहित परिसंपत्ति पर नहीं, बल्कि किसी अन्य वित्तीय साधन पर एक कान्ट्रैक्ट शामिल है। उदाहरण के लिए, रियल मार्केट में शेयरों के साथ संचालन होता है, जबकि फ्यूचर्स मार्केट स्टॉक इंडेक्स का उपयोग करके फ्यूचर्स ट्रेड करता है।

अपनी राय साझा करें

धन्यवाद! क्या कोई ऐसी बात है जो आप जोड़ना पसंद करेंगे?

आपको प्राप्त उत्तर का मूल्यांकन आप कैसे करेंगे?

अपनी टिप्पणी दें (वैकल्पिक)

आपकी प्रतिक्रिया हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है।
हमारे ऑनलाइन सर्वेक्षण को पूरा करने के लिए समय निकालने के लिए धन्यवाद!

smile""